Create
Notifications

गले में दर्द और इंफेक्शन होने पर करें ये योगासन : Gale Me Dard Aur Infection Hone Par Kare Ye Yogasan

गले में दर्द और इंफेक्शन होने पर करें ये योगासन (फोटो - sportskeeda hindi)
गले में दर्द और इंफेक्शन होने पर करें ये योगासन (फोटो - sportskeeda hindi)
reaction-emoji
Naina Chauhan
visit

मौसम बदलने की वजह से गले में दर्द और इंफेक्शन की समस्या हो सकती है। मुंह और गले में मौजूद गर्म और नम स्थितियां संक्रमण बढ़ने के लिए उत्तरदायी हो सकती है। इसके अलावा बैक्टीरिया मुंह के भीतर सांस की हवा या भोजन के माध्यम से पहुंचते हैं। ऐसे में गले की समस्याओं को दूर करने के लिए कुछ योगासन को अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं। इससे व्यक्ति की इम्यूनिटी भी मजबूत होती है और साथ ही योग के दौरान सांसों में गर्माहट आती है, जिससे खराश को दूर करने में मदद मिलती है। योगासन से गले के अंदरूनी हिस्से को इंफेक्शन दूर करने में सहायता मिलती है। जानते हैं गले में दर्द और इंफेक्शन दूर करने के लिए योग।

गले में दर्द और इंफेक्शन होने पर करें ये योगासन : Gale Me Dard Aur Infection Hone Par Kare Ye Yogasan In Hindi - Yoga Poses For Throat Infection In Hindi

सेतु बंधासन (Setu Bandhasana) - सेतु बंधासन करते समय हमारा हृदय सिर से ऊपर होता है। इससे सिर की तरह ब्लड सर्कुलेशन तेज होता है। इस आसन को करते समय गले की मांसपेशियों में खिंचाव पैदा होता है। इससे थायरॉयड ग्रंथि और अस्थमा के मरीजों को गले में दर्द से आराम मिल सकता है।

हस्त पादासन (Hasta Padasana) - हस्त पादासन का अभ्यास करते समय पूरी पीठ में खिंचाव आता है। यह आसन सिर से लेकर पैर तक पूरे हिस्से पर प्रभाव डालता है। इस आसन से गले में दबाव पड़ता है और इंफेक्शन दूर करने में मदद मिलती है। गले पर दबाव पड़ने से भीतरी मांसपेशियों को मसाज मिलती है और काम करने की क्षमता में बढ़ोतरी होती है।

धनुरासन (Dhanurasana) - धनुरासन करने से गले, सीने और पीठ की मांसपेशियों में खिंचाव पैदा होता है। धनुरासन के अभ्यास से हिप्स, पीठ और गले के बीच में आर्च बनता है। इससे गले की मांसपेशियों में अच्छी मसाज मिलती है। साथ ही मसल्स मजबूत और एक्टिव रहती है।

भुजंगासन (Bhujangasana) - इस आसन को करने से गले की मांसपेशियों पर दबाव पड़ता है और श्वसन तंत्र हेल्दी बनाता है। इसके नियमित अभ्यास से गले की मांसपेशियां मजबूत होती है और उनमें इंफेक्शन का खतरा कम हो जाता है। साथ ही सर्दी-जुकाम भी ठीक हो सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Naina Chauhan
reaction-emoji
Article image

Go to article
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now