Create
Notifications

5 कारणों से डीन एम्ब्रोज़ Fastlane में विलन नहीं बने 

Ishaan Sharma

फास्टलेन पीपीवी अब हो चुका है। इस शो में हमें कई शानदार मुकाबले देखने को मिले थे। सभी को लगा कि WWE चैंपियनशिप मैच इस शो को मेन इवेंट करेगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ बल्कि हमें द शील्ड शो को हैडलाइन करते हुए दिखी। पिछले हफ्ते रॉ में द शील्ड को एक बार फिर से मिलाया गया था और इसके बाद इस टीम का मैच ड्रू मैकइंटायर, बैरन कॉर्बिन और बॉबी लैश्ले के खिलाफ बुक कर दिया गया था।

सब जानते थे कि द शील्ड की इस मैच में जीत होगी लेकिन कई फैंस को डीन एम्ब्रोज़ के विलन बनने की सम्भावना भी नजर आ रही थी। हालाँकि ऐसा इस शो में नहीं हुआ। आईये जानें ऐसे 5 कारणों के बारे में जिनसे डीन एम्ब्रोज़ ने अपना हील टर्न नहीं किया।

#5 डीन एम्ब्रोज़ और रोमन रेंस का साथ होना काफी अच्छा था

WWE के इतिहास में ऐसे काफी कम रैसलर्स हैं जिन्होंने रोमन रेंस के जितना हासिल किया है। वह हमेशा से ही WWE में बड़ी चीज़ें करते आए हैं। अगर इस शो में डीन एम्ब्रोज़ हील बन जाते तो उन फैंस को काफी गुस्सा आता जो इस शानदार पल को महसूस कर रहे थे।

एम्ब्रोज़ अभी भी हील बन सकते हैं लेकिन ऐसा होने में थोड़ा समय बचा हो सकता है। लेकिन कई बार चीज़ों को बिगाड़ा ना जाए तो काफी अच्छा होता है। फैंस काफी खुश थे जब द शील्ड ने इस मैच को जीता। सभी के चेहरों पर ख़ुशी नजर आ रही थी और एम्ब्रोज़ के हील बनने से फैंस को काफी बुरा लगता।

WWE News in Hindi, RAW, SmackDown के सभी मैच के लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं

#4 डीन एम्ब्रोज़ एक हील के तौर पर अच्छे नहीं लगते हैं

पिछले साल जब डीन एम्ब्रोज़ ने अपना हील टर्न किया था तब फैंस को झटका लगा था। किसी ने नहीं सोचा था कि एम्ब्रोज़ अपना हील टर्न करेंगे लेकिन उन्होंने ऐसा ही किया। इसके बाद हमें सैथ रॉलिंस और एम्ब्रोज़ के बीच दुश्मनी भी देखने को मिली लेकिन ये दुश्मनी इतनी खास नहीं रही।

इसके कुछ समय के बाद एम्ब्रोज़ दूसरे रैसलर्स के साथ भी दुश्मनी की लेकिन ये साफ पता लग रहा था कि वह एक हील के तौर पर अच्छा काम नहीं कर पा रहे हैं।

इसके बाद हमें एम्ब्रोज़ और रॉलिंस के बीच कई अच्छे सैगमेंट्स दिखे और फिर रेंस ने आकर इस ग्रुप को एक बार फिर से जोड़ा। एक फेस के तौर पर एम्ब्रोज़ ने हमेशा से ही शानदार काम किया है और उन्हें दोबारा एक हील बनने की कोई जरूरत नहीं है।

#3 WWE के पास रोमन रेंस के लिए दूसरे प्लान्स हैं

WWE ने पहले रोमन रेंस और डीन एम्ब्रोज़ के बीच रैसलमेनिया मैच प्लान किया था लेकिन रेंस को कैंसर हो गया था और इस कारण वह इस दुश्मनी में शामिल नहीं हो पाए थे। हालाँकि अब वह वापस आ चुके हैं और हमें इन दोनों रैसलर्स के बीच दुश्मनी दिख सकती है। लेकिन अब नए प्लान्स के अनुसार WWE रोमन रेंस को रैसलमेनिया में बैरन कॉर्बिन के खिलाफ बुक करना चाहती है।

इस मैच के होने की सम्भावना काफी ज्यादा है क्योंकि कॉर्बिन और रेंस के मैच को रैसलमेनिया के बाद हो रहे लाइव इवेंट्स के लिए बुक कर दिया गया है। WWE फैंस इन दोनों रैसलर्स के बीच मैच नहीं देखना चाहते हैं लेकिन अगर विंस मैकमैहन ऐसा करने वाले हैं तो उन्हें कोई नहीं रोक सकता है।

#2 द शील्ड अभी भी कई और मुकाबले लड़ने वाली है

WWE ने इस मैच को द शील्ड का आखिरी मैच बताया था लेकिन सच्चाई तो ये है कि हमें इस टीम के कई और मुकाबले देखने को मिलेंगे। ऐसे में द शील्ड को तोड़ने की कोई जरूरत नहीं है। जबतक डीन एम्ब्रोज़ WWE में हैं तबतक हमें इस टीम के मुकाबले देखने को मिल जाए तो फैंस काफी खुश होंगे।

फास्टलेन में हुआ मैच शील्ड का आखिरी पीपीवी मैच ज़रूर हो सकता है अगर एम्ब्रोज़ सच में WWE को छोड़ने वाले हैं। शायद उनके जाने से रैने यंग भी WWE से चली जाएंगी लेकिन अभी ये सिर्फ एक अफ़वाह है।

जैसा की मैंने पहले कहा, जबतक शील्ड WWE में हैं तबतक उसे तोड़ा ना जाए तो कोई बुराई नहीं है। मौजूदा अफ़वाहों के अनुसार रॉ में हमें शील्ड के कई और मुकाबले दिखेंगे और अगर ये खबर सच है तो फैंस काफी खुश होंगे।

#1 ताकि सैथ रॉलिंस और ब्रॉक लैसनर की दुश्मनी पर ध्यान दिया जा सके

क्या आप लोग भूल गए हैं कि रैसलमेनिया में सैथ रॉलिंस का सामना ब्रॉक लैसनर से होने वाला है?

अगर आप भूल गए हैं तो इसमें आपकी गलती नहीं है क्योंकि WWE ने इस दुश्मनी पर ध्यान ही नहीं दिया है। रॉलिंस ने इस साल मेंस रॉयल रंबल मैच तो जीत लिया लेकिन इसके बाद उनकी दुश्मनी लैसनर से होने की बजाय एम्ब्रोज़ के साथ ही चलते रही।

इससे लैसनर और रॉलिंस की दुश्मनी के लिए जरा भी बिल्ड-अप नहीं हो सका है लेकिन अब ऐसा करना होगा। रैसलमेनिया में अभी सिर्फ कुछ हफ्ते बाकी है और ऐसे में अगर एम्ब्रोज़ अपना हील टर्न कर लेते तो एक बार फिर रॉलिंस और लैसनर की दुश्मनी का बिल्ड-अप नहीं हो पाता।

Edited by Ishaan Sharma

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...