Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

इन 5 बड़े खतरों से WWE को बचकर रहना होगा

  • WWE के लिए सबसे बड़े खतरें
Neeraj sharma
ANALYST
टॉप 5 / टॉप 10
Modified 20 Dec 2019, 22:59 IST

Things might get stranger in WWE as the year goes on.

वर्ष 2018 WWE के लिए बेहद ख़राब साबित हुआ था और यही दौर नए वर्ष में भी जारी है। रॉ और स्मैकडाउन की रेटिंग्स रिकॉर्ड निचले स्तर पर जा पहुंची है। स्मैकडाउन काफी समय से अपनी साथी ब्रांड रॉ से बेहतर प्रदर्शन कर रही है। फिर भी स्मैकडाउन भी WWE की बेहतरी के लिए कुछ नहीं कर पा रही।

यह मानने वाली बात है कि WWE के लिए सबसे बड़ा ख़तरा सिर्फ रेटिंग्स ही नहीं हैं। WWE के नुकसान के कई पहलू हैं, जिनके कारण मिस्टर मैकमैहन काफी परेशान हैं।

इस नुकसान के दौर से बाहर निकलने और इसकी भरपाई करने के लिए इस हफ्ते रॉ में वाइल्डकार्ड रूल पेश किया गया। यानी अब जरूरत के अनुसार सुपरस्टार्स को WWE की दोनों ब्रांड्स में प्रयोग किया जाएगा।

साल का सबसे बड़ा शो रैसलमेनिया 35 एक महीने पहले ही आयोजित हुआ था। उसके बाद से दिक्कते बढ़ ही रही हैं ना कि कम हो रही हैं। ये सभी चीजें दर्शाती हैं कि ख़तरा एक तरफ से नहीं बल्कि चौतरफा WWE को घेर रहा है।

इस आर्टिकल में हम ऐसे ही पाँच कारणों पर चर्चा करने वाले हैं कि दुनिया की सबसे बड़ी रैसलिंग कंपनी के बड़े अधिकारी परेशान हैं।


5) ऑल एलीट रैसलिंग और अन्य रैसलिंग कंपनियाँ

The mere existence of AEW has put pressure on WWE

WCW के पतन को दो दशक पूरे होने वाले हैं। मगर सच तो यहीं है कि WCW ने WWE को लगभग पीछे छोड़ ही दिया था। फिर एक ऐसा भी समय आया जब विंस मैकमैहन ने पूरी WCW को ही खरीद लिया।

रिंग ऑफ ऑनर, न्यू जापान प्रो रैसलिंग भी इस मार्केट में जगह बनाने में सफल रही हैं। लेकिन WWE को चुनौती कोई नहीं दे सका। अब WCW का वह दौर एक बार फिर AEW के रूप में वापस आ गया है।

हालांकि अभी तक किसी को अंदाजा नहीं है कि AEW कितनी सफल होगी। मगर सच्चाई यह है कि उनके पास मैकमैहन परिवार से कहीं अधिक पैसा है और टैलेंट को अपने साथ जोड़ने की प्रक्रिया जारी है। यदि WWE इस नई रैसलिंग कंपनी को परेशानी न समझ रही होती, तो अभी तक 'द रिवाइवल', ल्यूक हार्पर और न जाने कितने ही रैसलर्स की रिलीज़ की मांग को मंजूरी मिल चुकी होती।

Advertisement

WWE News in Hindi, RAW, SmackDown के सभी मैच के लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं

1 / 5 NEXT
Published 09 May 2019, 14:30 IST
Advertisement
Fetching more content...