Create

नार्मल हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए: Normal Hemoglobin Kitna Hona Chahiye

फोटो: Seemit.com
फोटो: Seemit.com
reaction-emoji
Amit Shukla

हीमोग्लोबिन शरीर में खून के अंदर होता है और इसकी मात्रा ही ये निर्धारित करती है कि आपके पास पर्याप्त मात्रा में खून है या नहीं। अगर मात्रा सही है तो आप फिट होंगे वरना आपको शरीर में हर तरफ सिर्फ परेशानी ही दिखाई देगी। सुस्ती, कमजोरी, थकान, जोड़ों का दर्द, ये सब इसके ही लक्षण हैं।

ये भी पढ़ें: शुगर में मौसमी का जूस पीना चाहिए या नहीं: Sugar mein mausami ka juice peena chahiye ya nahin

सर से लेकर पैर, और दाँत से लेकर आँत तक हर जगह आपको खून देखने को मिलेगा। आपके मसूड़ों में भी खून होता है और जब मसूड़ों में परेशानी आती है तो वो खून का रिसाव करने लगते हैं। हीमोग्लोबिन कम होने का मतलब है कि आपको कोई परेशानी पेश आ रही है जो कहीं से भी अच्छी बात नहीं है।

अगर शरीर में खून की कमी है तो आप एनीमिया के शिकार हैं। इस बीमारी से ग्रसित लोगों के लिए जिंदगी में परेशानी कदम कदम पर सामने आती है। अगर आप खून की कमी का एहसास कर रहे हैं तो आपको अपना ध्यान रखना चाहिए क्योंकि ये कष्टकारी हो सकता है जो अच्छी बात नहीं है।

नार्मल हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए

पुरुष और महिलाओं में अलग अलग काउंट

एक पुरुष में 13.5-17.5 ग्राम प्रति डेसीलीटर का स्तर हीमोग्लोबिन का सामन्य स्तर होता है। महिलाओं में यदि ये स्तर 12.0 – 15.5 ग्राम प्रति डेसीलीटर हीमोग्लोबिन की मात्रा में हो तो उसको सेहतमंद माना जाता है। इस बात का ध्यान रखें और अपनी सेहत को किसी भी प्रकार से खराब ना होने दें।

ये भी पढ़ें: पुराने से पुराने झाइयां दूर करने के 3 उपाय: Purane se purane jhaaiyaan door karne ke 3 upaay

चुकंदर का सेवन करें

चुकंदर को खून बढ़ाने वाला फल कहा जाता है। आप चाहें तो इसका सेवन कर के अपने शरीर में खून की मात्रा को बढ़ा सकते हैं। चुकंदर के सेवन से आपको आयरन भी प्राप्त होगा और खून भी बढ़ेगा। इससे हीमोग्लोबिन का काउंट भी सही रहेगा। ये बात ध्यान रखें और आज ही चुकंदर खाएं या जूस के रूप में पिएं।

पालक खाएं या करेले का सेवन करें

पालक में आयरन होता है और इसमें अन्य कई जरूरी तत्व भी होते हैं। हर फल एवं सब्जी में जरूरी मिनरल्स होते हैं। इनकी वजह से सेहत अच्छी और फिट रहती है। फास्ट फूड खाकर आप अपनी सेहत को खराब कर रहे हैं जो कहीं से भी एक अच्छा कदम नहीं है और आपको ये ध्यान रखना चाहिए।

ये भी पढ़ें: शरीर में खून की कमी क्यों होती है: Shareer mein khoon ki kami kyon hoti hai

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Amit Shukla
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...