Create
Notifications

शुगर में मौसमी का जूस पीना चाहिए या नहीं: Sugar mein mausami ka juice peena chahiye ya nahin

फोटो: Only My Health YouTube
फोटो: Only My Health YouTube
Amit Shukla
ANALYST

मौसमी का रस खट्टा होता है। इस बात को पढ़ते ही आप ये तो समझ गए होंगे कि इसमें विटामिन सी पाया जाता है। विटामिन सी होने से आप इस बात को भी समझ सकते हैं कि ये शुगर के मरीजों के लिए नुकसानदेह नहीं है लेकिन फिर भी कुछ लोग इसका सेवन करने से डरते हैं जो थोड़ा हैरान करने वाली बात है।

ये भी पढ़ें: शरीर में खून की कमी क्यों होती है: Shareer mein khoon ki kami kyon hoti hai

इसमें दोराय नहीं कि मौसमी के अंदर भी शुगर होता है लेकिन वो शुगर आपको परेशान नहीं करती है और ना ही कोई भी दिक्कत का कारण बनती है। मौसमी का जूस पीना ठीक है लेकिन शुगर के मरीजों को जूस से ज्यादा फल का ही सेवन करना चाहिए। इसका ये अर्थ नहीं है कि आप जूस नहीं पी सकते हैं।

पेट में जाने के बाद ये अपने प्रभाव दिखाता है और ये सिर्फ किसी फल या जूस के लिए सच नहीं है बल्कि हर भोजन के लिए सच है। आप जो भी खाते हैं उससे मिलने वाले मिनरल्स को शरीर खुद में एब्जॉर्ब करता है जिससे सेहत को लाभ होता है। आपको अगर शुगर की समस्या है तो आप इन तरीकों को जीवन में अपनाएं और सेहतमंद हो जाएं।

शुगर में मौसमी का जूस पीना चाहिए या नहीं

शुगर में मौसमी का जूस पिया जा सकता है

जी हाँ, शुगर के मरीज होने का अर्थ ये नहीं है कि आप अच्छी चीजों का सेवन नहीं कर सकते हैं। ये सब चीजें आपके लिए ही बनी हैं लेकिन बीमारी के कारण आपको थोड़े एहतियात बरतने होते हैं। ऐसे में अगर आप मौसमी का जूस पीना चाहते हैं तो ये बिल्कुल मुमकिन है और इससे कोई नुकसान नहीं होता है।

ये भी पढ़ें: तरबूज खाने के बाद क्या नहीं खाना चाहिए: Tarbooj khaane ke baad kya nahin khaana chahiye

इस तरह से मौसमी जूस का सेवन करने का प्रयास करें

ऐसा माना जाता है कि जूस में आपको वो फाइबर नहीं प्राप्त होते हैं जो मौसमी में होते हैं जो एक हद तक सही है। मौसमी के जूस का सेवन करते समय आप उसमें आंवले का रस और शहद मिलाएं। शहद को एक चम्मच से ज्यादा ना रखें और अब इसके इस्तेमाल से आपको कोई नुकसान नहीं होगा।

डॉक्टर से सलाह अवश्य लें

शुगर की बीमारी में आपको इस बात का ध्यान रखना होता है कि आपकी बीमारी का स्तर क्या है? अगर बीमारी का स्तर अधिक है तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी ही चाहिए। यदि आप शुरूआती दौर में ही हैं तो भी आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए क्योंकि उन्हें ही आपकी वास्तविक स्थिति का पता होता है।

ये भी पढ़ें: पुराने से पुराने झाइयां दूर करने के 3 उपाय: Purane se purane jhaaiyaan door karne ke 3 upaay

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Amit Shukla
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now