Create

5 कारण जो बताते हैं कि विंस मैकमैहन को अब रोमन रेंस पर भरोसा नहीं रहा

Enter caption

रोमन रेंस आमतौर पर जब भी रिंग में उतरते हैं, खुद को The Guy कहकर पुकारते हैं। उनका यह नाम दर्शाता है कि वो कंपनी के सबसे बड़े सुपरस्टार हैं। पहले भी हल्क होगन, स्टोन कोल्ड स्टीव ऑस्टिन, द रॉक जैसे न जाने कितने ही बड़े-बड़े सुपरस्टार्स, जिन्होंने पूरी कंपनी का भार अपने मजबूत कंधों पर संभाला है।

द शील्ड के रूप में शुरुआत करने के बाद से ही रोमन रेंस को बड़ा पुश दिया जाने लगा और वो आज दुनिया के सबसे चहेते प्रो रैसलर्स में से एक हैं। लेकिन क्या आपको नहीं लगता कि विंस मैकमैहन का रोमन से विश्वास अब कम होता जा रहा है।

यहाँ हम ऐसे ही कुछ बड़े कारण आपके सामने रख रहे हैं जो दर्शाते हैं कि वाकई में मिस्टर मैकमैहन अब द बिग डॉग पर अधिक भरोसा नहीं जताना चाहते।

#5 लगातार मैचों का दिलचस्प ना होना

यदि आपको याद हो तो रैसलमेनिया 35 में रोमन रेंस का सामना ड्रू मैकइंटायर से हुआ था। लेकिन उसके बाद इनके बीच फ्यूड अभी भी जारी है या पूरी तरह समाप्त हो चुकी है, रणनीति समझ से परे है। सच्चाई तो यही है कि विंस मैकमैहन फिलहाल रोमन पर कोई चांस नहीं लेना चाहते और इसी कारण उन्हें मिलने वाली स्टोरीलाइंस का स्तर फिलहाल काफी निचले स्तर पर आ पहुंचा है, जिनमें दिलचस्पी जैसी कोई चीज नहीं है।

संभावनाएं हैं कि द बिग डॉग को समरस्लैम तक किसी अच्छी फ्यूड का इंतज़ार ही करना पड़े। क्योंकि शेन मैकमैहन के साथ कुछ सप्ताह पहले ही ड्रू मैकइंटायर को जोड़ा गया है और उम्मीद तो यही है कि एक बार फिर रैसलमेनिया रीमैच होने वाला है।

मैकइंटायर और रोमन एक बार फिर आमने-सामने आएं या ना, मगर मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है कि यह पूर्व चैंपियन किसी मिड-कार्ड सुपरस्टार्स से अधिक कुछ नहीं है।

WWE News in Hindi, RAW, SmackDown के सभी मैच के लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं

#4 रोमन रेंस को वर्ल्ड/यूनिवर्सल टाइटल से दूर रखना

विंस मैकमैहन ने कुछ समय पहले कहा था कि वो फैंस के मुताबिक काम करने वाले हैं। सैथ रॉलिंस और कोफ़ी किंग्सटन का चैंपियन बनना दर्शाता है कि वो वही कर रहे हैं, जो फैंस को पसंद है।

कोफ़ी किंग्सटन पूरे ग्यारह साल इंतज़ार करने के बाद WWE चैंपियन बने। सैथ रॉलिंस पहले भी खासे लोकप्रिय थे और चैंपियन बनने के बाद तो दुनिया भर से उनके प्रदर्शन को वाहवाही मिल रही है। वैसे भी WWE को एक फुल-टाइम यूनिवर्सल चैंपियन की जरूरत थी और इसी कारण फैंस लगातार लैसनर को बू का रहे थे।

अगर रोमन रेंस की बात करें तो वापसी के बाद से ही उन्हें किसी टाइटल के पास आने का भी मौका नहीं मिला है। वैसे भी दोनों चैंपियंस का बेबीफेस होना बताता है कि वो कुछ समय और किसी चैंपियनशिप फ्यूड से दूर ही रहने वाले हैं।

#3 उनके मुकाबलों का एक मोहरे के रूप में किया जा रहा प्रयोग

सुपर शोडाउन में रोमन का सामना शेन मैकमैहन से हुआ और इस फ्यूड की शुरुआत वहां से हुई, जब रोमन ने बीच रिंग में विंस मैकमैहन को जोरदार सुपरमैन पंच जड़ दिया था। द बिग डॉग एक बार फिर अथॉरिटी से जा भिड़े थे, फिर भी उनके मुक़ाबले को सुपर शोडाउन शो में कोई खास तवज्जो नहीं दी गई।

आमतौर पर इस तरह के मैच किसी शो की शुरुआत में लड़े जाते हैं। तीसरे स्थान पर इस मुक़ाबले का होना दर्शाता है कि इसे केवल क्राउड़ के मन में इवेंट के प्रति ऊब पैदा ना होने के लिए प्रयोग में लिया गया था।

रोमन रेंस अभी भी WWE के बड़े सुपरस्टार्स में से एक हैं परन्तु सबसे बड़े सुपरस्टार हैं या नहीं, इसके बारे में फिलहाल कुछ कहना थोड़ा कठिन है।

यह भी पढ़ें: 5 घटनाएँ जिनसे मजबूर होकर डीन एम्ब्रोज़ को WWE छोड़नी पड़ी

#2 रैसलमेनिया के मेन इवेंट का हिस्सा ना होना

रैसलमेनिया 31 के बाद कोई भी ऐसी रैसलमेनिया नहीं रही है, जिसके मेन इवेंट का हिस्सा रोमन रेंस ना रहे हों। उन्होंने लगातार चार रैसलमेनिया को हैडलाइन किया, जहाँ उनका सामना दो बार ब्रॉक लैसनर से, एक बार ट्रिपल एच से और एक बार अंडरटेकर से हुआ।

अक्टूबर 2018 में ल्यूकीमिया के बाद कह पाना मुश्किल था कि क्या लगातार पाँचवी बार रोमन, रैसलमेनिया के मेन इवेंट का हिस्सा बनने वाले हैं। तभी सर्वाइवर सीरीज़ 2018 से तुरंत पहले बैकी लिंच को नाया जैक्स का एक पंच सीधे मुंह पर आकर लगा, इसी पंच के जरिये उनकी लोकप्रियता में अविश्वसनीय इजाफा देखा गया।

न केवल उनकी लोकप्रियता में इजाफा हुआ बल्कि उन्हें रैसलमेनिया को हैडलाइन करने का भी मौका मिला। अब वापसी के बाद भी रोमन से अधिक बैकी लिंच और अन्य चैंपियन्स को तवज्जो दी जा रही है।

यह भी पढ़ें: 3 चीजें जिनमें सुधार लाने से WWE को AEW पर जीत मिल सकती है

#1 एक साल से चली आ रही पीपीवी विनिंग स्ट्रीक का अंत

रोमन रेंस को लगातार पुश मिलते रहे मगर साथ ही साथ उन्हें संघर्ष भी करना पड़ा, क्योंकि क्राउड़ उन्हें बू करने लगा था। इस सब के बावजूद हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि रोमन आज भी मैकमैहन फैमिली के बेहद करीब हैं।

रोमन किसी पीपीवी में अपना पिछला मैच जुलाई 2018 में हुई एक्सट्रीम रूल्स में हारे थे। करीब एक साल से चली आ रही स्ट्रीक का अंत भी शेन मैकमैहन, जो खुद एक फुल-टाइम इन रिंग परफ़ॉर्मर नहीं हैं। ये सभी द बिग डॉग के भविष्य के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं।

जिस रैसलर के पीछे विंस मैकमैहन ने इतने साल मेहनत की है, उसे वो ऐसे तो व्यर्थ नहीं जाने देंगे। मगर मौजूदा परिस्थितियाँ जैसी हैं, उनसे इन सभी बातों को झूठ मानें कि भी किसी फैंस के पास कोई वजह नहीं बची है।

यह भी पढ़ें: WWE के छः टॉप सुपरस्टार्स जिन्होंने कभी किसी मैच में टैप-आउट नहीं किया

Quick Links

Edited by विजय शर्मा
Be the first one to comment