Create

WWE Smackdown, 10 अप्रैल 2019: शो की अच्छी और बुरी बातें

The SmackDown after WrestleMania 35 was quite a disappointing affair

रैसलमेनिया के बाद अमूमन रॉ और स्मैकडाउन इतने ज़बरदस्त होते हैं कि फैंस हैरान रह जाते हैं। अगर आसान तरीके से कहें तो इसमें इतने सरप्राइज़ करने वाले पल होते हैं कि फैंस सोचते रह जाते हैं कि ये क्या हुआ, और क्यों। इस हफ्ते रॉ में सिर्फ अंडरटेकर की वापसी और डीन एम्ब्रोज़ का जाना ही कुछ ज़बरदस्त पल थे, और इसके साथ साथ हमने शो की अच्छी और बुरी बातों का भी एक विश्लेषण किया था।

ये भी पढ़ें: WWE Raw, 8 अप्रैल 2019: शो की अच्छी और बुरी बातें

इस हफ्ते स्मैकडाउन में कुछ और ज़बरदस्त होने की संभावना थी, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ जिसकी वजह से ये कयास लग रहे हैं कि कंपनी एक ज़बरदस्त हफ्ते के बाद काफी धीमे तरीके से कहानियों को आगे बढ़ा रही थी। अगले हफ्ते होने वाले सुपरस्टार शेकअप के दौरान काफी सारे सरप्राइज़ देखने को मिल सकते हैं, और आप की तरह हम भी इसका इंतज़ार कर रहे हैं, क्योंकि बेहतर शोज़ और ज़बरदस्त परफॉर्मर्स से काफी कुछ अच्छा होगा।

वैसे इस हफ्ते कंपनी ने स्मैकडाउन में क्या अच्छा और बुरा किया, आइए उस पर एक नज़र डालते हैं:

#1 अच्छा: पेज की वापसी

जब एक कहानी हो जिसमें इस बात के कयास लग रहे हों कि अगले हफ्ते क्या होगा, तो उसमें जो रोमांच होता है, वैसा किसी और में नहीं। आपने अगर देखा हो तो ये जानते होंगे कि आइकॉनिक ने एक लोकल टीम को हराया, और इस दौरान जिस तरह से कोरी ग्रेव्स ने लोकल रैसलर्स के नाम गलत बुलाए उससे काफी मज़ाकिया पल बने।

इसके साथ साथ जब पेज ने ये कहा कि इस तुरंत खत्म हुए मैच और इस चैंपियन टीम के खिलाफ लड़ने के लिए वो एक टीम को अगले हफ्ते शो में लाएंगी तो फैंस काफी उत्साहित हो गए। पेज हमेशा से सबकी पसंदीदा हैं, तो उनका काम भी काफी अच्छा होगा।

WWE News in Hindi, RAW, SmackDown के सभी मैच के लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं।

#1 बुरा: मेन इवेंट मैच का अच्छा ना होना

एक तरफ न्यू डे की टीम थी और दूसरी तरफ थे शेमस, सिजेरो और ड्रू मैकइंटायर जिन्होंने एक ज़बरदस्त मैच लड़ने का प्रयास किया लेकिन वो ऐसा कर नहीं सके। इस मैच के दौरान हाल में WWE चैंपियन बने कोफ़ी किंग्सटन का काम अच्छा था, लेकिन मैच से जो उम्मीदें थीं वो पूरी नहीं हो सकी थीं। एक तरफ तो एक टीम थी जो लगातार काम करती है, तो वहीं तीन रैसलर्स जो सिर्फ एक मकसद से साथ थे, और वो था न्यू डे को हराना।

इसमें वो कामयाब हुए या नहीं, वो अलग बात है, जिस बात ने सबका ध्यान खींचा वो था इनका प्रदर्शन जिसके अच्छा होने की उम्मीद सब कर रहे थे, लेकिन वो ऐसा इस मैच के दौरान नहीं पा सके। अब क्या अगले हफ्ते कुछ अच्छे सेग्मेंट्स देखने को मिलेंगे, या नहीं, ये देखना दिलचस्प होगा।

#2 अच्छा: नए स्मैकडाउन टैग टीम चैंपियन

द उसोज में हुनर है और हार्डी बॉयज़ इस जीत से पहले सात बार वर्ल्ड टैग टीम चैंपियन रह चुके हैं। अब ऐसी संभावनाएं हैं कि द उसोज रॉ का हिस्सा बनने वाले हैं तो एक लैजेंडरी टीम अगर इस टाइटल को उनसे लेकर स्मैकडाउन की टैग टीम डिवीज़न का मान बढ़ाएगी तो उससे ना सिर्फ डिवीज़न को फ़ायदा होगा बल्कि उनका काम भी अच्छा होगा।

वैसे भी इस समय द उसोज की ज़रूरत रॉ को स्मैकडाउन की अपेक्षा ज़्यादा है, इसलिए हार्डीज़ की टीम का जीतना ना सिर्फ टैग टीम डिवीजन के लिए अच्छा है बल्कि रैसलिंग और कंपनी के लिए भी अच्छा है। अगर आपने इनकी जीत के बाद फैंस का रिएक्शन देखा होगा तो आप ये समझ सकते हैं कि ये कितने पसंद किए जाते हैं। अब इनका अगला चैलेंजर कौन होगा, ये देखना होगा? वैसे भी सुपरस्टार शेकअप इसका सही जवाब देगा।

#2 बुरा:चैंपियंस द्वारा तुरंत मार पाना

जब एक टीम चैंपियन बनी हो तो उसे उस जीत का आनंद उठाने का मौका देना चाहिए, लेकिन कंपनी ने तुरंत ही लार्स सुलिवन को भेजकर ना सिर्फ इस कहानी को खराब कर दिया बल्कि उन्हें वो मौका नहीं दिया जिसके वो हकदार थे। इस टाइटल को जीतने के बाद वो एक इंटरव्यू करने ही वाले थे कि तभी लार्स ने आकर ना सिर्फ चैंपियंस को पीटा बल्कि ये भी दिखाया कि वो टैग टीम डिवीज़न से ऊपर हैं।

रॉ में उनका आना वैसे तो कोई बुरा नहीं था क्योंकि कर्ट एंगल अब इनरिंग रैसलिंग से दूर जा रहे थे, लेकिन हार्डी बॉयज़ तो अब चैंपियन हैं और अब भी रैसलिंग कर रहे हैं। इस सैगमेंट को थोड़ी देर बाद या बैकस्टेज या फिर किसी और समय करने से ना सिर्फ टैग टीम को फायदा होता बल्कि इस रैसलर को भी उसी वजह से काफी फायदा होता। कंपनी का ये कदम कहीं से भी सही नहीं था।

#3 अच्छा: समोआ जो-ब्रॉन स्ट्रोमैन का आमना सामना

समोआ जो और ब्रॉन स्ट्रोमैन का एक साथ एक ही सैगमेंट में होना अच्छी बात थी, क्योंकि एक तरफ जहां ब्रॉन के पास कोई कहानी नहीं है तो वहीं समोआ का रैसलमेनिया में एक स्क्वाश मैच हुआ था जिसकी वजह से उनके किरदार और चैंपियनशिप को कोई ख़ास फायदा नहीं हुआ।

एक चैंपियन सिर्फ तब तक कारगर है जब तक वो ज़बरदस्त मैच लड़ता है, और इस हिसाब से ब्रॉन और समोआ का एक कहानी का हिस्सा बनना दोनों के करियर के साथ साथ चैंपियनशिप के लिए भी फायदेमंद रहेगा। ये दोनों काफी अच्छा काम कर सकते हैं तो इस मैच में फैंस का भी इन्वॉल्वमेंट काफी होगा जो ना सिर्फ कहानी बल्कि कंपनी के लिए भी फायदेमंद रहेगा।

वैसे भी सुपरस्टार शेकअप अगले हफ्ते है तो अगर ये दोनों एक ही कहानी और ब्रैंड का हिस्सा बनते हैं तो उससे मनोरंजन और एक्शन पक्का है।

#3 बुरा: बेकार सी रैसलमेनिया की ट्रॉफी

आखिरकार एक बैटल रॉयल करवाने का क्या फायदा जब उसको जीतने वाले को कोई ख़ास फायदा ना हो, कोई इनाम, कोई चैंपियनशिप के लिए लड़ाई और कोई कहानी ना हो। ये बात इस साल रैसलमेनिया के बैटल रॉयल को जीतने वाले ब्रॉन स्ट्रोमैन और कार्मेला के लिए एकदम सही है क्योंकि दोनों को इसे जीतकर कोई फायदा नहीं होता दिख रहा है। एक तरफ कार्मेला हैं जिन्होंने इस मैच को जीतने के बाद भी बैकी लिंच से कोई चैंपियनशिप मैच नहीं लड़ा, तो वहीं उनका सैगमेंट समोआ जो की एंट्री का तरीका था ताकि वो आर-ट्रुथ पर वार कर सकें।

इसके बाद का सैगमेंट ब्रॉन की एंट्री का तरीका था, लेकिन उससे भी कोई ख़ास फायदा होता हुआ नहीं दिख रहा है। क्या ऐसा मुमकिन है कि इस तरह के बैटल रॉयल को किसी अच्छे इनाम के साथ किया जाए, ना कि ग्रेटेस्ट रॉयल रंबल में एक हरे रंग की चैंपियनशिप बेल्ट जीतने के साथ?

#4 अच्छा/बुरा: शेन मैकमैहन की स्थिति

शेन मैकमैहन का किरदार 'बेस्ट इन द वर्ड' के साथ शुरू होता है, जो अमूमन सीएम पंक का किरदार था, और जैसे ही ये हुआ, फैंस ने पंक के नाम का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया। शायद उसी समय शेन को समझ आया कि वो क्या गलती कर बैठे हैं, क्योंकि उन्होंने उसे तुरंत ही सुधार भी लिया। उन्होंने रिंग एनाउंसर को बुलाकर और बुली करके अपने किरदार को स्थापित किया और ये भी बताया कि वो एक बेबीफेस और हील बहुत अच्छे तरीके से बन सकते हैं।

वैसे तो इस समय इस कहानी के दौरान कोई बाहर नहीं आया, जो काफी हैरान कर देने वाली बात है, लेकिन इस तरह की कहानी को और आगे तथा बेहतर किया जा सकता था।

वैसे शेन या सीएम पंक 'बेस्ट इन द वर्ल्ड हैं या नहीं, ये हम नहीं कह सकते, लेकिन एक बात तो तय है कि एलेक्सा ब्लिस ज़रूर बेस्ट इन द वर्ल्ड हैं।

Quick Links

Edited by PANKAJ
Be the first one to comment