Create
Notifications

अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane)


ABOUT

Full Nameअजिंक्य रहाणे

BornJune 6, 1988

Height5 फुट 6 इंच

Nationalityभारतीय

Roleदाएं हाथ के बल्लेबाज

Relation(s)राधिका धोपावकर (पत्नी)

MOST RECENT MATCHES

MATCH RUNS BF 4s 6s SR OVERS MO RC WKTS ECO EX
KKR vs SRH 28 24 0 3 116.67 0 0 0 0 0 0
KKR vs MI 25 24 3 0 104.17 0 0 0 0 0 0
DC vs KKR 8 14 1 0 57.14 0 0 0 0 0 0
MI vs KKR 7 11 0 0 63.64 0 0 0 0 0 0
PBKS vs KKR 12 11 3 0 109.09 0 0 0 0 0 0
BATTING STATS

GAME TYPE M INN RUNS BF NO AVG SR 100s 50s HS 4s 6s CT ST
ODIs 90 87 2962 3767 3 35.26 78.63 3 24 111 293 33 48 0
TESTs 82 140 4931 9972 12 38.52 49.44 12 25 188 560 34 99 0
T20Is 20 20 375 331 2 20.83 113.29 0 1 61 32 6 16 0
T20s 219 209 5528 4624 20 29.24 119.55 2 40 105 571 111 90 0
LISTAs 167 163 6054 0 10 39.56 10 42 187 0 0 80 0
FIRSTCLASS 167 285 11981 22546 27 46.43 53.14 36 53 265 1459 80 172 0
BOWLING STATS

GAME TYPE M INN OVERS RUNS WKTS AVG ECO BEST 5Ws 10Ws
ODIs 90 0 0 0 0 0 0 0
TESTs 82 0 0 0 0 0 0 0
T20Is 20 0 0 0 0 0 0 0
T20s 219 1 1 5 1 5.00 5.00 1/5 0 0
LISTAs 167 2 7 43 3 14.33 6.14 2/36 0 0
FIRSTCLASS 167 9 18 75 0 4.16 0 0 0
ABOUT

अजिंक्य रहाणे की जीवनी

भारतीय क्रिकेटर अजिंक्य रहाणे का जन्म 6 जून 1988 को महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के अश्विनी केडी में हुआ था। वह दाएं हाथ के बल्लेबाज हैं। वह मुंबई और भारत के लिए खेलते हैं और भारतीय टेस्ट टीम के उप-कप्तान हैं।


2016 में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने उनके लिए अर्जुन पुरस्कार की सिफारिश की थी।

अजिंक्य रहाणे


बैकग्राउंड

रहाणे ने 7 साल की उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू किया, जब पिता उन्हें डोंबिवली के एक कोचिंग कैंप में ले गए थे। 17 साल की उम्र में उन्हें प्रवीण आमरे ने कोचिंग दी थी। उन्होंने कराची में मोहम्मद निसार ट्रॉफी के लिए चुने जाने से पहले न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए एक अंडर-19 मैच खेला था।


सितंबर 2007 में कराची अर्बन के खिलाफ खेलते हुए उन्होंने 19 साल की उम्र में मुंबई के लिए प्रथम श्रेणी क्रिकेट की शुरुआत की थी। उन्होंने अपने डेब्यू मैच में 143 रन बनाए, जिस वजह से उन्हें रेस्ट ऑफ इंडिया के खिलाफ ईरानी ट्रॉफी मैच के लिए चुना गया था। उन्होंने 2007-08 सत्र में मुंबई के लिए रणजी ट्रॉफी की शुरुआत की थी। उन्होंने प्रभावशाली प्रदर्शन किया और वेस्ट जोन का प्रतिनिधित्व करने के लिए उन्हें दिलीप ट्रॉफी में चुना गया।


दूसरे सत्र में उन्होंने 1000 से अधिक रन बनाए और मुंबई को 38वां रणजी खिताब जीतने में मदद की। उन्होंने अगले सीजन में हैदराबाद के खिलाफ नाबाद 265 रन बनाकर प्रथम श्रेणी क्रिकेट का अपना सर्वोच्च स्कोर बनाया। 2010-11 के सत्र में एक हजार रन बनाने के बाद वह लगातार 3 सत्र में एक हजार रन बनाने में सफल रहे। राजस्थान के खिलाफ ईरानी ट्रॉफी में 152 रन के स्कोर ने उन्हें भारतीय टेस्ट टीम में जगह दी। इस बीच 2011 में इमर्जिंग प्लेयर्स टूर्नामेंट में उनके शानदार प्रदर्शन ने उन्हें वनडे टीम में जगह दी।


डेब्यू

उन्होंने चेस्टर-ले-स्ट्रीट में इंग्लैंड के खिलाफ अपने एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की। वहां उन्होंने 90 की स्ट्राइक रेट से 40 रन बनाए। उन्होंने उस सीरीज़ में अच्छा प्रदर्शन किया था। हालांकि, इसके बाद की वेस्टइंडीज, श्रीलंका और पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज में वह कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए।


उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ ओल्ड ट्रैफर्ड, मैनचेस्टर में टी-20 इंटरनैशनल क्रिकेट में पदार्पण किया, जहां उन्होंने 49 गेंदों पर 61 रन बनाए।

अजिंक्य रहाणे डेब्यू


एकदिवसीय मैचों में उनके अनियमित प्रदर्शन की वजह से वह मार्च 2013 तक टेस्ट में पदार्पण नहीं कर सके। उन्होंने दिल्ली में बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना पहला मैच खेला था। वह दोनों पारियों में सिंगल डिजिट के स्कोर पर आउट हो गए थे।


अजिंक्य रहाणे का शानदार प्रदर्शन

खराब शुरुआत के बावजूद उन्हें दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए चुना गया। उन्होंने 69 के औसत से 209 रनों की शानदार पारी खेली थी। उन्होंने दूसरे टेस्ट में 96 रन की शानदार पारी खेली।


इसके बाद न्यूजीलैंड के खिलाफ जब भारतीय टीम के 5 विकेट 156 रन पर गिर गए थे, तब रहाणे ने बेहतरीन शतक लगाकर टीम को संभाला था। इंग्लैंड के अगले दौरे में उन्होंने लॉर्ड्स में शतक बनाया। इस तरह वह उस मैदान पर शतक बनाने वाले चौथे भारतीय खिलाड़ी बन गए थे।


बेहतरीन तकनीक और अच्छे स्वभाव ने उन्हें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज में अच्छा प्रदर्शन करने में मदद की। वहां उन्होंने एक शतक और 3 अर्धशतक के साथ 399 रन बनाए। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ फ्रीडम टेस्ट सीरीज के चौथे टेस्ट में रहाणे ने दोनों पारियों में शतक लगाए थे। वह उस सीरीज में तीन अंकों के व्यक्तिगत स्कोर वाले एकमात्र खिलाड़ी थे।


वनडे और टी-20 में नहीं बिखेरी चमक

भले ही रहाणे ने बहुत सारे मैच खेले हों लेकिन वह 3 वनडे और टी-20 मैचों में अपनी चमक नहीं बिखेर सके। उनके नाम पर तीन वनडे शतक हैं।


सलामी बल्लेबाजी में अधिक प्रतिस्पर्धा और उनकी विफलताओं की वजह से उन्हें मध्यक्रम में चौथे नंबर पर भेजा गया, ताकि वह अच्छी बल्लेबाजी कर सकें। वह 2015 के आईसीसी क्रिकेट विश्व कप और 2016 के वर्ल्ड टी-20 टूर्नामेंट में अपना प्रभाव छोड़ने में असफल रहे।

अजिंक्य रहाणे आईपीएल


आईपीएल में बनाए 2000 रन

वह आईपीएल में मुंबई इंडियंस, राजस्थान रॉयल्स और राइजिंग पुणे सुपरजायंट के लिए खेल चुके हैं। मुंबई में बहुत सीमित अवसरों के साथ वह 2012 में राजस्थान चले गए। उन्होंने उस सीजन के पहले मैच में 98 रन की मैच जिताऊ पारी खेली थी। उन्होंने आईपीएल में 2000 से अधिक रन बनाए हैं, जिसमें एक शतक भी शामिल है।


कर चुके हैं कप्तानी भी

2015 में उन्हें जिम्बाब्वे दौरे के लिए वनडे और टी-20 क्रिकेट टीम के कप्तान के रूप में नियुक्त किया गया था।


मार्च 2017 में रहाणे ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे टेस्ट में भारतीय टीम की कप्तानी की थी क्योंकि विराट कोहली चोटिल थे। भारत ने उस मैच को आठ विकेट से जीतकर बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी हासिल की थी।

Fetching more content...